PM मोदी के बाद ट्रंप ने इमरान खान को किया कॉल, कश्मीर पर दी हिदायत

Tuesday, August 20, 2019

  Showing of photos
PM मोदी के बाद ट्रंप ने इमरान खान को किया कॉल, कश्मीर पर दी हिदायत

: डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के मुताबिक उन्होंने दोनों देशों को जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में तनाव कम करने की हिदायत दी है. पिछले एक हफ्ते से कम समय में ये दूसरा मौका है, जब ट्रंप ने इमरान खान ने बातचीत की है.


अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trumph) और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के बीच सोमवार रात टेलिफोन पर हुई बातचीत के बाद ट्रंप ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भी कॉल किया. इसकी जानकारी खुद ट्रंप ने ट्वीट करके दी है. ट्रंप के मुताबिक उन्होंने दोनों देशों को जम्मू-कश्मीर में तनाव कम करने की हिदायत दी है.

पिछले एक हफ्ते से कम समय में ये दूसरा मौका है, जब ट्रंप ने इमरान खान से बातचीत की है. ट्रंप ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मैंने अपने दो अच्छे दोस्त भारत के प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से बात की है. इन दोनों से व्यापार, सामरिक भागीदारी और सबसे अहम दोनों देशों को कहा है कि वो कश्मीर में तनाव कम करें. हालात मुश्किल हैं, लेकिन दोनों नेताओं से अच्छी बातचीत हुई है.'

ट्रंप और मोदी की बातचीत
सबसे पहले सोमवार रात को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप के बीच टेलीफोन पर बातचीत हुई. इस दौरान उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के भारत विरोधी बयानों का परोक्ष रूप से जिक्र किया. पीएम मोदी ने इस बातचीत में कहा कि भारत के खिलाफ हिंसा के लिए इस तरह भड़काना शांति के लिए ठीक नहीं है.

गर्मजोशी से हुई बात
प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक पीएम मोदी और ट्रंप के बीच 30 मिनट तक बातचीत चली जिस दौरान दोनों ने द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की. ये बातचीत काफी गर्मजोशी और सौहार्दपूर्ण तरीके से हुई जो दोनों नेताओं के बीच के संबंधों को जाहिर करती है. प्रधानमंत्री ने अपनी इस बातचीत में इसी साल जून में जापान के ओसाकामें हुए जी -20 शिखर सम्मेलन में हुई अपनी बैठक को भी याद किया.

इमरान खान पर पीएम ने साधा निशाना
पीएम मोदी ने कहा कि इस क्षेत्र में कुछ नेताओं द्वारा भारत के खिलाफ हिंसा के लिए भड़काना और बयानबाजी करना शांति के अनुकूल नहीं है. मोदी ने आतंकवाद और हिंसा मुक्त माहौल बनाने और सीमापार से आतंकवाद पर रोक लगाने के महत्व पर बातचीत की.