दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग में 2000 हजार करोड़ का घोटाला: मनोज तिवारी

Monday, July 1, 2019

  Showing of photos  
दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग में 2000 हजार करोड़ का घोटाला: मनोज तिवारी

: नई दिल्ली, जेएनएन/ एएनआइ। दिल्ली भाजपा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पर घोटाला करने का गंभीर आरोप लगाया है। सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग में दो हजार करोड़ का घोटाला हुआ है।

मनोज तिवारी ने कहा कि एक आरटीआई से पता चला है कि स्कूलों में कमरों के निर्माण के लिए अतिरिक्त 2000 करोड़ रुपये दिए गए थे जो केवल 892 करोड़ रुपये में बनाए जा सकते थे। टास्क दिए गए 34 ठेकेदारों में उनके भी रिश्तेदार शामिल हैं।

भाजपा ने मांगा सिसोदिया का इस्तीफा
दिल्ली भाजपा के आधिकारिक ट्विटर पर दी गई जानकारी के अनुसार, मनोज तिवारी ने मनीष सिसोदिया पर घोटाला करने का आरोप लगाते हुए इस्तीफे की मांग की। उन्होंने कहा कि जिस लोकपाल की बात केजरीवाल करते थे हम उसी लोकपाल को इस घोटाले की जानकारी देने जा रहे हैं।

भाजपा नेता ने कहा कि अच्छे से अच्छे होटल का कमरा भी ज़्यादा से ज़्यादा 5000 रुपए sq.ft से ज़्यादा का नहीं बनता लेकिन केजरीवाल सरकार स्कूल का कमरा 8800 रुपए sq.ft का बनवा रही है। यह दिल्ली की जनता के टैक्स का ऐसा दुरुपयोग है जो कहीं देखने को नहीं मिलेगा।

प्रवेश वर्मा ने साधा केजरीवाल पर निशाना
वहीं, भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने कहा कि दिल्ली सरकार कहती हैं की हमने शिक्षा बजट बढ़ाया है। क्या बजट इसलिए था कि इतना बड़ा घोटाला कर सके ताकि इस पैसे का इस्तेमाल चुनाव में कर सकें। उन्होंने कहा कि आलीशान बंगले में भी 2200 रुपए sq.ft से ज़्यादा का ख़र्च नहीं आता और दिल्ली सरकार 8800 रुपए sq.ft का कड़ी टुकड़ी का कमरा बनवा रही है।

प्रवेश वर्मा ने कहा कि कड़ी टुकड़ी की छत कभी स्कूल में उपयोग नहीं होता लेकिन इसका उपयोग केजरीवाल सरकार स्कूल के कमरे बनाने में कर रही है। यह कड़ी टुकड़ी की छत सबसे सस्ती बनती है और यह बच्चों की जान के साथ खिलवाड़ है।

प्रवेश वर्मा ने कहा कि भाजपा लोकपाल में इस मामले की शिकायत करेगी, इसकी डिजाइन और खर्चे दोनो के जांच की मांग करेगी। वहीं भाजपा सांसद हंसराज हंस ने कहा कि मीडिया को भी इस मामले की जांच अपने स्तर से करनी चाहिए।